अधोमुखश्वानासन योग (Adhomukhvashanasana Yoga )

अधोमुखश्वानासन मुद्रा मध्यवर्ती स्तर की योग मुद्रा है। जिसमें शरीर को ऊपर की ओर उलटे अँग्रेजी शब्द “V” आकार की स्थिति में ले जाया जाता है।  

अधोमुखश्वानासन योग क्या है?

अधोमुखश्वानासन का मतलब है सिर नीचे किए हुए श्वान यानि डॉग की पोजिशन बनाना। यह आसन पूरी बॉडी की स्ट्रेचिंग के साथ ही बैक बोन, पैरों और हाथों की मसल्स को स्ट्रॉन्ग बनाने में हेल्पफुल होता है।

अधोमुखश्वानासन मुद्रा मध्यवर्ती स्तर की योग मुद्रा है। जिसमें शरीर को ऊपर की ओर उलटे अँग्रेजी शब्द “V” आकार की स्थिति में ले जाया जाता है।यह संस्कृत के शब्द “अध” से लिया गया जिसका अर्थ है “नीचे”, “मुख” का अर्थ है “चेहरा” और श्वान का अर्थ है “कुत्ता”, और आसन का अर्थ है “मुद्रा”। यह आसन एक कुत्ते के समान दिखता है जब वह आगे की और झुकता है। इस आसन के कई अद्भुत लाभ हैं जो आपको हर दिन इसका अभ्यास करने के लिए बेहद आवश्यक बनाते हैं। यह पूरे शरीर को गर्म करता है, जिसे शरीर में ऊर्जा पैदा होती है। अधोमुखश्वानासन मुद्रा रक्त को सिर और मस्तिष्क की ओर प्रवाहित करने में मदद करता है ।

अधोमुखश्वानासन योग की विधि(method of Adhomukhvashanasana Yoga)

  1.  सबसे पहले सीधे खड़े हों और दोनों पैरों के बिच छोड़ा दूरी रखें।

      2.  उसके बाद धीरे से नीचे की ओर मुड़ें जिससे की V जैसे Shape बनेगा।

      3.  जैसे की ऊपर दिए हुए फोटो में आप देख रहे हैं दोनों हाथों और पैरों के बीच में थोडा सा                    दूसरी बनायें।

      4. साँस लेते समय अपने पैरों की उँगलियों की मदद से अपने कमर को पीछे की ओर खींचें।                अपने पैरों और हांथों को ना मोड़ें।

      5. ऐसा करने से आपके शरीर के पीछे, हांथों और पैरों को अच्छा खिंचाव मिलेगे।

      6. एक लम्बी से साँस लें और कुछ देरी के लिए इस योग पोज़ में रुकें।

अधोमुखश्वानासन योग के फायदे (Benefits of Adhomukhvashanasana Yoga)

  1. मांसपेशियों में मजबूती आती है।
  2. साइनस की समस्या दूर होती है।
  3. शरीर को अच्छा खिचाव मिलता है।
  4. रक्त परिसंचरण में सुधार आता है।

Tagged : / / /

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *