गर्मी में त्वचा की देखभाल (Summer skin care)

मौसम के साथ-साथ त्वचा में बदलाव आता है। इसलिए गर्मी, बरसात और ठंड के मौसम के अनुरूप अलग-अलग ढंग से त्वचा की देखभाल की आवश्यकता होती है।

गर्मी का मौसम(Summer season)

  • गर्मी के दिनों में तेज गर्म हवाएँ त्वचा को काफी नुकसान पहुँचाती हैं। इस मौसम में पसीने की चिपचिपाहट का भी सामना करना पड़ता है।
  • गर्मी के मौसम में पसीना अधिक निकलने की वजह से घमौरी, खाज, खुजली आदि की शिकायत भी उत्पन्न हो जाती है।
  • तेज धूप में निकलने पर त्वचा पर सनबर्न, पिगमेंटेशन आदि की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है।
  • अधिक गर्मी और पसीने की वजह से बगलों व जाँघों में संक्रमण हो जाता है।

बचाव के उपाय(Prevention Measures)

  • दिन में कम से कम दो बार ठंडे पानी से स्नान करें।
  • साफ, धुले, सूती कपड़े पहनें। अंतर्वस्त्र दो बार बदलें।
  • दिनभर में 3-4 बार चेहरे को फेसवॉश से साफ करें।
  • ककड़ी, खीरा, संतरा या मौसम्बी का रस निकाल लें। इसे फ्रिज में जमने के लिए रख दें। इसके क्यूब को चेहरे पर मलें। चेहरा चमक उठेगा। रोमकूपों और मुँहासों के लिए भी लाभदायक होता है।
  • पानी में थोड़ी-सी फिटकरी मिलाकर इसे आइस क्यूब में रखकर फ्रिज में जमा लें। यह क्यूब चेहरे पर रगड़ने से ताजगी मिलती है।
  • गर्मी के दिनों में ब्लीचिंग न करवाएँ। इससे त्वचा काली हो जाने का डर रहता है।

 सनबर्न (Sunburn)

सनबर्न लोशन में अक्शाइल मेथॉक्सीसीनमेट (Methoxycinnamate),
ऑक्सीबेन्ज़ोन (Oxybenzone) और टाइटेनियम डाइऑक्साइड (
Titanium dioxide ) शामिल हैं। यह सूर्य की पराबैंगनी विकिरणों के हानिकारक प्रभावों से त्वचा को बचाता है सनबर्न लोशन में एक यूवीए और यूवीबी सुरक्षा कारक है। ऑक्टिल मेथोक्सीसीनमाइट (Octyl methoxynimite) एक सूर्य अवरुद्ध करने वाला एजेंट है जो यूवी किरणों को अवशोषित करता है और निशान को कम करने में मदद करता है।

सनबर्न क्या है?(What is sunburn)?

त्वचा शरीर का सबसे बड़ा अंग है, जो सूरज की किरणों के संपर्क में आता है. सूर्य की पराबैंगनी किरणें त्वचा में प्रवेश करती हैं और त्वचा में मेलेनिन के निर्माण में मदद करती हैं. मेलेनिन रंगों का वह द्रव्य है जो त्वचा को कालापन देता है. शरीर में मेलेनिन की अधिक मात्रा त्वचा को काला करती है. सूरज के विकिरण के संपर्क में आने से भी शरीर को विटामिन डी और गर्मी पैदा करने में मदद मिलती है सभी उम्र, जाति और लिंग के लोग सनबर्न की स्थिति में आ सकते हैं. सभी मौसमों में जब सूरज की किरणे कम होती हैं तब भी यह स्थिति हो सकती है

सनबर्न के लक्षण और संकेत क्या हैं? (What are the symptoms and signs of sunburn)?

सनबर्न त्वचा लाल होता है, त्वचा में दर्द होता है और आमतौर यह छूने में गर्म लगता है. प्रायः, यह तब दिखता है जब त्वचा पराबैंगनी (यूवी) किरणों या कृत्रिम रोशनी जैसे कि सनलैम्प्स के संपर्क में अधिक समय तक रहती है. सनबर्न के संकेतों में शामिल हैं:

  • त्वचा पर गुलाबीपन या लालिमा
  • दर्द, खुजली और सूजन
  • छोटे आकार के द्रवयुक्त फफोले
  • सिरदर्द, बुखार, मतली और थकान

सनबर्न बीमारी के लक्षणों को बढ़ाता है जैसे दाद, एक्जिमा, जिल्द की सूजन और एरिथेमेटोसस. गंभीरता के कारण मेलेनोमा, त्वचा कैंसर, समय से पहले बुढ़ापा, त्वचा की झुर्रियां, डिहाइड्रेशन, थकावट और हीट स्ट्रोक भी हो सकता है

सनबर्न किन कारणों से होता है?(What causes sunburn)?

पराबैंगनी बी से संबंधित पराबैंगनी सौर विकिरण या फोटो खींचने से त्वचा में जलन होती है. अगर त्वचा धूप में बहुत अधिक उजागर होती है तो स्किन कैंसर होने की संभावना होती है. त्वचा में मेलेनिन वर्णक त्वचा के रंग को सामान्य रखने में मदद करता है. जब त्वचा बहुत ज्यादा धूप या यूवी किरणों के संपर्क में आती है तब भी यह तेज हो जाता है और शरीर की सुरक्षा करता है.

सनबर्न के लिए सबसे अच्छा इलाज क्या है?(What is the best treatment for sunburn)?

यदि किसी व्यक्ति को सनबर्न हो जाता है तो त्वचा को ठीक होने में लगभग 2 सप्ताह का समय लगता हैं. इसके इलाज से केवल त्वचा को आराम मिलता है लेकिन त्वचा ठीक नहीं होती है. उपचार के दौरान दर्द, सूजन और बेचैनी से राहत मिल सकती है|

  • हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम: यह खुजली को कम करने में मदद करता है|
  • कोल्ड शॉवर्स: ठंडे स्नान या शॉवर लेने से दर्द से राहत पाने में मदद मिलती है|
  • एलोवेरा मॉइस्चराइजर: एलोवेरा युक्त मॉइस्चराइजर का उपयोग छीलने वाली त्वचा पर किया जा सकता है|
  • रीहाइड्रेट: अतिरिक्त पानी पीने से भी प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है|

सनबर्न से बचाव के उपाय क्या हैं?(What are the measures to prevent sunburn)?

हानिकारक सूर्य विकिरणों से खुद को बचाना, बाहर निकलने पर धूप का चश्मा और कैप का उपयोग करके बचा जा सकता है. इन सभी निवारक उपायों से एक व्यक्ति को इससे बचने में मदद मिल सकती है और अगर किसी भी तरह का नुकसान हुआ है तो आगे के एपिसोड को भी रोका जा सकता है.

  • सुबह 10 बजे – शाम 4 बजे के दौरान धूप में बाहर जाने से बचें|
  • ऐसे कपड़े पहनें जो त्वचा को यूवी किरणों से बचाने और ब्लॉक करने में मदद करें|
  • यूवी प्रोटेक्शन वाले धूप के चश्मे जरूर पहने|
  • एसपीएफ़ 30 या उच्चतर का सनस्क्रीन लागू करें और इसे हर 2 घंटे के भीतर पुन: लागू करें.
  • ज्यादा धूप में बाहर जाने से बचें|

गर्मी में त्वचा की देखभाल के घरेलू उपाय(Home remedies for skin care in summer)

आधा खीरा लेकर उसे अच्छे से पीस ले फिर इसमें एलोवेरा का रस मिला लें अब इसे चेहरे पर 15 से 20 मिनट तक लगाकर रखें| फिर इसे ठंडे पानी से धो लें जिससे त्वचा का रूखापन दूर होता है और त्वचा में चमक आती है |

  • गर्मी में अधिक से अधिक पानी का सेवन करें|
  • गर्मी में ताजे फलों का और जूस का सेवन करें |
    एक टब में गुनगुना पानी लें और उसमें छह कप दूध मिलाएं, इसमें पैर को डुबोकर रखें. यह करने से शरीर का तापमान कम होगा और त्वचा मुलायक होगी|
  • धूप में निकलने से पहले 30 SPF वाला सनस्क्र‍ीन का इस्तेमाल करें. लेकिन ध्यान रहे कि इसे घर से निकलने के 15 मिनट पहले लगाना चाहिए| सनस्क्रीन लगाने के तुरंत बाद धूप में ना निकलें. दिन में तीन बार सनस्क्रीन का प्रयोग करें |
  • अगर धूप के कारण सनबर्न हो गया है तो सनबर्न स्क‍िन के लिए एंटीऑक्सीडेंट वाले हल्के लोशन का इस्तेमाल करें. इसके इस्तेमाल से त्वचा ठीक होगी.
  • टीवी में ऐड देखकर या किसी के सलाह पर अपनी त्वचा के साथ एक्सपेरिमेंट ना करें. नया स्किन प्रोडक्ट आजमाने से पहले अपनी त्वचा के बारे में जान लें. इसमें कोई त्वचा विशेषज्ञ आपकी मदद कर सकता है. आप त्वचा विशेषज्ञों के पास जाकर गर्मियों में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स की जानकारी लें |
Tagged : / /

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *