तेलीय त्वचा की देखभाल(Oil Skin Care)

जिनके चेहरे की त्वचा तैलीय होती है, उन्हें कई समस्याओं से जूझना पड़ता है। ऐसे लोगों के चेहरे पर हल्का ऑयल हर समय बना रहता है और चेहरा चिपचिपा लगता है। तैलीय त्वचा के कारण कील-मुंहासे हो जाते हैं जो चेहरे की सुंदरता को बिगाड़ देते हैं। इसलिए, आज इस लेख में हम आपको तैलीय त्चचा के बारे में कुछ घरेलू उपाय बताए जाएंगे जिनके प्रयोग से आपके चेहरा सुंदर, आकर्षक व कोमल हो जाएगा।

तैलीय त्वचा होने के कारण(Causes of Oily Skin in Hindi)

1. तनाव (Tension) :- तनाव स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है। इससे कई तरह की समस्याएं हो सकती हैं। जब हम तनाव में होते हैं, तो हमारे शरीर में हार्मोनल संतुलन बिगड़ जाता है। कोर्टिसोल भी एक तरह का हार्मोन है। हमारे तनावग्रस्त होने पर शरीर में इसका रिसाव शुरू हो जाता है, जिससे त्वचा तैलीय होती है|

2. हार्मोन में बदलाव(Hormone changes) :- जीवन के विभिन्न स्तरों पर महिलाओं के शरीर में कई तरह के हार्मोनल बदलाव होते हैं। फिर चाहे वह किशोरावस्था में हो या फिर गर्भावस्था के दौर से गुजर रही हो। यहां तक कि मेनपॉज से पहले और बाद में भी महिलाओं में हार्मोनल बदलाव होते हैं। इस दौरान शरीर में मौजूद तैलीय ग्रंथीया सक्रीय हो जाती हैं और त्वचा में मौजूद तेल चेहरे पर नरज आने लगता है, जिस कारण त्वचा तैलीय हो जाती है|

3. आनुवंशिक (Genetic):- अगर किसी के माता-पिता की त्वचा तैलीय है, तो संभव है कि उनके बच्चों की त्वचा भी तैलीय हो सकती है। इस स्थिति में बच्चों के चेहरे पर ऑयनी स्किन के छिद्र बड़े हो सकते हैं, जिस कारण तैलीय ग्रंथियोंं से तेल अधिक मात्रा में निकलता है।

4. स्किनकेयर उत्पादों का अधिक प्रयोग (Overuse of skincare products) :- हमारे चेहरे की त्वचा सबसे ज्यादा संवेदनशील होती है। हम चेहरे को निखारने के लिए विभिन्न स्किनकेयर उत्पादों का इस्तेमाल करते हैं। हम ज़रूर से ज़्यादा चेहरे की स्क्रबिंग करते हैं। परिणामस्वरूप, हमारे चेहरे की रंगत उड़ने लगती है। ऐसा करने से भी स्किन तैलीय हो सकती है।

5. मौसम में बदलाव (Change in weather) :- मौसम मैं बदलाव के साथ उसका असर चेहरे पर दिखाई देता है। गर्मियों में नमी बढ़ने के कारण पसीना ज्यादा आता है और तैलीय ग्रंथीयों से तेल ज़्यादा बाहर निकलता है। इस कारण चेहरा ज़रूरत से ज़्यादा ऑयली नजर आता है। वहीं, सर्दियों में त्वचा रूखी हो जाती है, ऐसे में माश्चराइजर की कमी को पूरा करने के लिए स्किन ज़्यादा ऑयली हो जाती है।

6. अधिक दवाओं का सेवन (Prescription drugs) :- अत्याधिक दवाओं का सेवन करने से भी त्वचा तैलीय हो सकती है। अगर आप हार्मोनल गर्भनिरोधक दवा या फिर हार्मोन रिप्लेसमेंट दवा का सेवन कर रही हैं, तो सावधान हो जाइए। हो सकता है कि इन दवाओं के लगातार सेवन से आपकी त्वचा भी तैलीय हो जाए और कील-मुंहासों का सामना करना पड़े।

7. गलत खानपान (Wrong Catering) :- तला, मिर्च-मसाले, चिकनाई युक्त व अधिक वसा वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करने से त्वचा तैलीय हो जाती है|

बायोटीक बायो नारियल व्हाइटनिंग और ब्राइटनिंग क्रीम(Biotique Bio Coconut Whitening And Brightening Cream)

मात्रा (quantity):- 50 ग्राम; आइटम फॉर्म: क्रीम

त्वचा के प्रकार(Skin type) :- सभी प्रकार की त्वचा के लिए मेलेनिन के खिलाफ आंतरिक त्वचा की रक्षा करता है|

उपयोग (Use):- साफ चेहरे और गर्दन पर लागू करें धीरे से त्वचा में मालिश करें|

पैकेज सामग्री (Package Contents) :- 1 व्हाइटनिंग और ब्राइटनिंग क्रीम

लोटस हर्बल्स नीम एंड क्लोव प्यूरिफाइंग फेस वॉश (Lotus Herbals Neemwash Neem & Clove Purifying Face Wash)

ऑयली स्किन के लिए नीम एक वरदान की तरह है। इसकी एंटी-बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज़ ऑयली और एक्ने-प्रोन स्किन पर मैजिक की तरह काम करती हैं। लौंग भी स्किन के एक्सेस ऑयल को हटाने में मदद करती है, इसलिए ये फेसवॉश ऑयली स्किन के लिए परफेक्ट होता है। ये ना सिर्फ स्किन ऑयल को कंट्रोल करता है, बल्कि एक्ने, ब्लेमिशेज़ और एक्ज़िमा-प्रोन स्किन के लिए भी काफी फायदेमंद होता है।

तैलीय त्वचा (ऑइली स्किन) के लिए घरेलू उपाय – (Home Remedies for Oily Skin in Hindi) :-

तैलीय त्वचा के घरेलू उपाय के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें बनाना आसान है, इनका कोई हानिकारक प्रभाव भी नहीं है।

1. गुलाब जल (rose water):-

गुलाब जल को प्राकृतिक और स्वास्थ्य के अच्छा माना गया है। यह त्वचा में ऑयल को नियंत्रित कर नमी प्रदान करता है। गुलाब जल में भरपूर मात्रा मे एंटीमाइक्रोबायल (Antimicrobial) ,एंटीऑक्सीडेंट(Antioxidant),मिनरल( Mineral)व विटामिन(Vitamin)होते हैं। ये सभी गुण तैलीय त्वचा की देखभाल करने के लिए पर्याप्तहैं|

सामग्री :- थोड़ा-सा गुलाब जल ,एक कॉटन बॉल

कॉटन बॉल या फिर रूई के छोटे से टुकड़े को गुलाब जल में भिगोकर इससे चेहरे को साफ करें। ऐसा करने से ना सिर्फ चेहरे की त्वचा खिल उठेगी, बल्कि आप खुद को तरोताजा महसूस करेंगे ।इस प्रक्रिया को आप दिन में दो बार सुबह व रात को सोने से पहले अपना सकते हैं।

2. मुल्तानी मिट्टी (Multani mitti):-

तैलीय त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी का उपयोग किया जाता है। इसमें भरपूर मात्रा में खनिज पाया जाता है। मुल्तानी मिट्टी का फेस पैक स्किन में से तेल को सोखकर, प्राकृतिक ख़ूबसूरती देता है। इसके अलावा, यह कील-मुंहासों को खत्म कर दाग-धब्बों को हल्का कर देता है।

सामग्री :- mदो चम्मच मुल्तानी मिट्टी , एक चम्मच ताज़ा दही , दो-तीन बूंद नींबू का रस

बनाने की विधि :- इन सभी सामग्रियों को एक कटोरी में डालकर तब तक मिक्स करें, जब तक कि पेस्ट ना बन जाए।अब चेहरे को पानी से अच्छे से धो लें और तौलिये से साफ कर लें।इसके बाद पेस्ट को अपने पूरे चेहरे पर लगाएं।जब फेस पैक पूरी तरह से सूख जाए, तो ठंडे पानी से चेहरा धो लें।चेहरा धोने के बाद माश्चराइज़र क्रीम जरूर लगाएं|

नोट :- इस फेस पैक को आप हफ्ते में तीन बार लगा सकते हैं।

3. मसूर की दाल (Masur lentils):-

मसूर की दाल में भरपूर मात्रा में खनिज व विटामिन होते हैं। यह खाने में भी फायदेमंद है, यह त्वचा के लिए भी लाभकारी है। इसका फेस पैक तैलीय त्वचा पर असरकारक है।

सामग्री :- आधा कप मसूर की दाल , एक तिहाई कप कच्चा दूध

बनाने की विधि :- मसूर की दाल को रातभर पानी में भिगोकर रखें और सुबह इसे अच्छी तरह पीस लें। अब इसमें दूध मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें। इस फेस पैक को अपने चेहरे पर लगाकर करीब 20 मिनट तक सूखने दें।अब चेहरे को ठंडे पानी से अच्छी तरह धो लें।

नोट :-इस फेस पैक से आप चेहरे की स्क्रबिंग भी कर सकते हैं।

4. नीम (Azadirachta indica):-

आयुर्वेदिक औषधी में नीम का अत्याधिक महत्व है। नीम के पत्तों व उसके रस से बनीं आयुर्वेदिक औषधियां स्वास्थ्य के लिए लाभप्रद हैं। साथ ही शरीर की सुंदरता को बढ़ाने में भी नीम का प्रयोग किया जाता है। नीम से तैयार किया गया फेस पैक तैलीय त्वचा के लिए बहुत लाभदायक है|

सामग्री :- नीम की 9-10 पत्तियां , 3-4 चुटकी हल्दी पाउडर|

बनाने की विधि :- नीम की पत्तियों को पानी में भिगोकर अच्छी तरह से पीस लें।
अब इसमें हल्दी पाउडर डाल दें।अगर पेस्ट गाढ़ा हो गया हो, तो उसे पतला करने के लिए पानी की कुछ बूंदें डाल सकते हैं।अब चेहरे को पानी से धोकर पेस्ट लगा लें।करीब 20 मिनट बाद जब पेस्ट सूख जाए, तो चेहरा पानी से धो लें।

नोट :- यह पैक चेहरे से तेल को सोख लेता है और कील-मुंहासों को भी साफ़ करता है।

5. संतरे का छिलका (Orange peel):-

संतरा विटामिन-सी का सबसे अच्छा स्रोत है, संतरा त्वचा में एंटीऑक्सीडेंट्स(Antioxidants) का संचार करने में मदद करता है संतरे के छिलके से बने फेस पैक न सिर्फ त्वचा से अतरिक्त तेल को निकाल बाहर करते हैं, बल्कि दाग-धब्बों को भी मिटाने का काम करते हैं।

सामग्री :- तीन चम्मचे संतरे के छिलके का पाउडर , चार चम्मच दूध , एक चम्मच नारियल का तेल , दो से चार चम्मच गुलाब जल

बनाने की विधि :- संतरे के छिलके को दो-तीन दिन धूप में सूखा लें और फिर उसे पीसकर पाउडर बना लें। हालांकि, यह पाउडर बाजार में भी मिल जाता है, लेकिन घर में बनाया पाउडर बेहतर होता है।इन सभी सामग्रियों को एक कटोरी में मिक्स कर लें और चेहरे पर लगाएं।करीब 15-20 मिनट बाद चेहरे को पानी से धो लें।

नोट:-आप इस फेस पैक को हफ्ते में 4-5 बार लगा सकते हैं।

6. खीरा (Cucumber):-

खीरा स्वास्थ्य के लिए बहुत लाभदायक है खीरा तैलीय त्वचा के लिए काफी फ़ायदेमंद है। खीरे में विटामिन-के, सी, पोटेशियम व फोलिक एसिड जैसे पौष्टिक गुण पाए जाते हैं। इसके अलावा, इसमें सिलिकॉन नामक खास तरह का तत्व मौजूद होता है, जो स्किन को निखारने में मदद करता है खीरे के रस को त्वचा के लिए बेहतरीन टॉनिक माना गया है, जिसे चेहरे पर लगाने से ताजगी का अहसास होता है।

सामग्री :- एक खीरा , नींबू के रस की 6-8 बूंदें , एक चम्मच शहद

बनाने की विधि :- खीरे का छिलका उतार लें और उसके टुकड़े कर बिना पानी डाले पीस लें।अब इसमें नींबू का रस और शहद को मिक्स कर लें।चेहरे को अच्छी तरह साफ कर, रूई की मदद से इस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं। हल्के-हल्के हाथों से चेहरे पर मसाज करें और फिर 15-20 के लिए इसे सूखने दें। इसके बाद हल्के गुनगुने पानी से चेहरे को धो लें।

7. शहद (Honey) :-

ऑयली स्किन के लिए शहद बहुत लाभदायक है। इसमें विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट, एंटीमाइक्रोबाइल व मिनरल जैसे तत्व मौजूद होते हैं जो स्किन से ऑयल को बाहर निकालकर, उसे ख़ूबसूरत बनाते हैं।

सामग्री :- 10 बादाम , एक चम्मच शहद

बनाने की विधि :- बादाम को रात भर पानी में भिगोकर रखें और सुबह इन्हें अच्छे से पीस लें।
अब इसमें एक चम्मच शहद मिलाकर अच्छे से मिक्स करें। इस पैक को चेहरे पर करीब 15 मिनट लगा रहने दें और सूखने के बाद धो लें।

8. एलोवेरा (Aloe vera):-

एलोवेरा सबसे प्राकृतिक उत्पाद है। इस औषधी का कई तरह से इस्तेमाल किया जा सकता है। एलोवेरा का प्रयोग सुंदर व निखरी त्वचा के लिए किया जाता है। यह तैलीय, रूखी व मिश्रित हर तरह की त्वचा के लिए फ़ायदेमंद है।

सामग्री :- एक चम्मच एलोवेरा जैल , एक चम्मच शहद

बनाने की विधि :- एलोवेरा के पत्तों को गर्म पानी में उबाल लें और इन्हें पीसकर पेस्ट बना लें।
इन दोनों को एक कटोरी में डालकर मिक्स कर लें। अब साफ हाथों से इस पैक को अपने चेहरे पर लगाएं। करीब 15-20 मिनट बाद ताजे पाने से चेहरा धो लें।

9. नींबू (Lemon):-

नींबू में विटामिन-सी होता है। चेहरे के रोमछिद्रों को साफ कर, उन्हें सिकोड़ने में मदद करता है। इसे चेहरे पर लगाने से तैलीय त्वचा की समस्या काफ़ी हद तक कम हो सकती है।

सामग्री :- आधा कटा हुआ नींबू , गुलाब जल की 7-8 बूंदें

बनाने की विधि :- आधे कटे हुए नींबू को चेहरे पर रगड़ें। अगर आपको जलन होती है, तो इसमें नींबू के रस में गुलाब जल मिक्स कर लें।अब इसे अपने चेहरे पर लगाकर, करीब 20 मिनट बाद पानी से धो लें।

तैलीय त्वचा (ऑइली स्किन) के लिए कुछ और टिप्स – Other Tips For Oily Skin Care in Hindi

इन घरेलू उपचारों के अलावा अन्य तरीके भी हैं, जिनकी मदद से हम अपनी ऑयली स्किन की केयर कर सकते हैं।

1.क्लींज़िंग (Cleansing) :- क्लींज़िंग करने से चेहरे के सभी पोर्स खुल जाते हैं और उनमें से सारी गंदगी बाहर निकल जाती है, जिससे चेहरे पर जमा अतिरिक्त तेल साफ हो जाता है। क्लीजिंग कराते समय इस बात का ध्यान रखें कि चेहरे को गुनगुने पानी से ही धोएं।

2.टोनिंग (Toning):- क्लींज़िंग करने के बाद टोनिंग का उपयोग करना चाहिए इसे करने से पोर्स बंद हो जाते हैं और वापस गंदगी चेहरे पर जमा नहीं हो पाती।

3.स्क्रीबिंग (Scribing):- ऑयली स्किन के कारण नाक के आसपास ब्लैकहेड्स हो जाते हैं। इन्हें हटाने के लिए ब्लैकहेड रिमूवर स्क्रब का इस्तेमाल किया जाता है। इससे न सिर्फ ब्लैकहेड्स साफ होंगे, बल्कि कील-मुंहासों से भी छुटकारा मिल जाएगा।

4. माश्चराइज़र(Moisturizer):- किसी भी अच्छी कंपनी की माश्चराइज़र क्रीम लगा सकते हैं। इससे त्वचा हाइड्रेट रहती है।

5.सनस्क्रीन (Sunscreen) :- सूरज के संपर्क में आते ही त्वचा ऑयली हो जाती है। इसलिए, ऐसी सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें, जो त्वचा को ऑयली होने से बचा सके।

Tagged : / /

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *