मुंहासे की समस्या (Acne problem)

मुंहासे निकलने की समस्या बेहद आम हो गई है। खासकर जिनकी त्वचा ऑयली यानी तैलीय है, उन्हें पिंपल ज्यादा परेशान करते हैं। पिंपल न सिर्फ चेहरे की खूबसूरती को कम करता है, बल्कि कई बार असहनीय दर्द भी देते हैं।

मुँहासे क्या है?(What is acne)?

चिकित्सा शर्तों में एक्ने वाल्गारिस है जो मुख्य रूप से तेल ग्रंथियों से संबंधित होता है, यह बालों के रोम के आधार पर पाए जाते हैं। किशोरावस्था में यह सबसे आम होते है जब ये ग्रंथियां काम करना शुरू कर देती हैं। दोनों लिंगों के एड्रेनल ग्रंथियों द्वारा गुप्त पुरुष हार्मोन से प्राप्त उत्तेजना के कारण ग्रंथियां सक्रिय हो जाती हैं।

मुँहासे आमतौर पर चेहरे, गर्दन, कंधे, पीठ और मनुष्यों में छाती पर पाए जाते हैं। एक त्वचा बनाने के लिए त्वचा कोशिकाओं, तेल सेबम और बाल एक साथ चिपकते हैं। समय में प्लग बैक्टीरिया की उपस्थिति के कारण संक्रमित हो जाता है जिसके परिणामस्वरूप सूजन हो जाती है। प्लग टूटना शुरू होता है और एक मुँहासे विकसित होता है।

मुँहासे का कारण क्या है?(What Causes Acne)?

मुँहासे के बारे में ध्यान देने योग्य एक दिलचस्प बात यह है कि यह निश्चित रूप से नहीं बताया जा सकता कि इसका कारण क्या है। विशेषज्ञों के मुताबिक, हार्मोन एंड्रोजन है जो युवावस्था के दौरान बढ़ता है जो बदले में त्वचा ग्रंथियों के विकास की ओर जाता है जिसके परिणामस्वरूप अत्यधिक होता है। यह छिद्रों की सेलुलर दीवार को तोड़ देता है जो जीवाणु विकास को सक्षम बनाता है।
कुछ अध्ययनों के मुताबिक आनुवंशिक प्रवृत्ति का एक तत्व भी है। लिथियम और एंड्रोजन के साथ दवा भी स्थिति का कारण बन सकती है। चीकनाहट भी एक और कारण हैं। प्रेगनेंसी से संबंधित हार्मोनल परिवर्तन से भी मुँहासे हो सकते है।

मुँहासे के विभिन्न प्रकार क्या हैं?(What are the different types of acne)?

  • व्हाइटहेड्स :- ये बहुत छोटे होते हैं और आमतौर पर त्वचा के नीचे मौजूद होते हैं।
  • ब्लैकहेड :- ब्लैकहेड स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है। वे रंग में काले और त्वचा की सतह पर अपनी उपस्थिति बनाते हैं। यह एक गलतफहमी है कि ब्लैकहेड गंदगी के कारण होते हैं और आपके चेहरे को गंदा करने के साथ स्क्रब करते हैं।
  • पैप्युल्स :- पैप्युल्स त्वचा की सतह पर आमतौर पर गुलाबी रंग में छोटे बाधा हैं।
  • पस्ट्यूल :- आसानी से त्वचा की सतह पर पस्ट्यूल की पहचान की जा सकती है। उनके पास पस से भरा शीर्ष वाला लाल आधार है।
  • नोबल्स :- त्वचा की सतह पर नोबुल भी खड़े हो जाते हैं। वे ठोस, बड़े मुँहासे होते हैं। वे अक्सर दर्द के साथ होते हैं और त्वचा की गहराई में एम्बेडेड होते हैं।
  • सीस्ट :- ये त्वचा की सतह पर दिखाई दे रहे हैं। वे आमतौर पर दर्दनाक होते हैं और पस भर जाते हैं। वे निशान पैदा करने के लिए प्रवण हैं।

मुंहासे होने के कारण (Due to acne)

  • अनुवांशिकता :– पिंपल की समस्या अनुवांशिक हो सकती है। अगर परिवार में किसी को बार-बार पिंपल होते हैं, तो अन्य व्यक्तियों को भी मुंहासे होने की आशंका बढ़ जाती है|
  • हार्मोनल बदलाव :– बढ़ती उम्र के साथ शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों की वजह से भी पिंपल होते हैं। खासकर महिलाओं को मासिक धर्म, गर्भावस्था और रजोनिवृत्ति के समय शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलावों के कारण पिंपल हो सकते हैं|
  • दवाओं के कारण :– कभी-कभी तनाव, मिर्गी या मानसिक बीमारी से जुड़ी कुछ दवाओं के सेवन से भी पिंपल निकल सकते हैं|
  • कॉस्मेटिक का ज्यादा इस्तेमाल :– कॉस्मेटिक यानी सौंदर्य प्रसाधनों का अधिक इस्तेमाल करने से भी पिंपल निकल आते हैं। कई बार महिलाएं पूरे दिन मेकअप में रहती हैं और रात को ठीक से मेकअप नहीं उतारती, इस वजह से भी पिंपल हो सकते हैं।
  • खानपान से जुड़ी आदतें :– जर्नल ऑफ द एकेडमी ऑफ न्यूट्रिशन एंड डायटेटिक्स की ओर से प्रकाशित की गई एक रिपोर्ट में बताया गया है कि भोजन में ट्रांस फैट, दूध और मछली पिंपल बढ़ने की वजह बन सकते हैं|
  • तनाव :– तनाव में रहने से भी पिंपल्स हो सकते हैं। तनाव की वजह से शरीर में अंदरूनी बदलाव होते हैं, जिस कारण पिंपल हो सकता है। साथ ही स्ट्रेस पिंपल को गंभीर भी काम कर सकता है|

निर्मित में ब्रश के साथ वाह कार्बनिक एप्पल साइडर सिरका फोमिंग फेस वॉश(WOW Organic Apple Cider Vinegar Foaming Face Wash with Built-In Brush)

वाह कार्बनिक सेब साइडर सिरका फोमिंग फेस वॉश इन-बिल्ट फेस ब्रश से अनजाने, शुद्ध और शुद्ध करने में मदद करता है। अपने चेहरे को हर दिन साफ, स्पष्ट और चमकता हुआ छोड़ दें|
यह फोमिंग फेस वॉश बॉटल सिलिकॉन फेस ब्रश से लैस है जो पोर्स की गहरी सफाई में मदद करता है।

  •  चकत्ते या पॉपिंग से बचने के लिए मुँहासे प्रवण त्वचा पर धीरे से ब्रश का उपयोग करें|
  • यह कार्बनिक एप्पल साइडर सिरका, मुसब्बर वेरा निकालने और विटामिन बी 5 और ई के साथ समृद्ध है जो आपकी त्वचा को अशुद्धियों को फैलाने में मदद करता है और आपकी त्वचा को स्वस्थ और युवा बनाता है।आपकी त्वचा को नुकसान के खिलाफ मदद करता है|और चिकनी, मुलायम और कोमल त्वचा के परिणामस्वरूप होता है
  • फेस वाश को शुद्ध कार्बनिक प्रमाणित हिमालयन एसीवी के साथ तैयार किया जाता है।
  • सूत्रीकरण बायोएक्टिव में समृद्ध है और पैराबेन, सिलिकोन, सुपहेट्स और रंग से मुक्त है|

मुंहासे से बचाव के लिए क्या खाएं और क्या न खाएं(What to eat and what not to eat to prevent acne)

गलत खान-पान की वजह से भी मुंहासे होते हैं। इसी वजह से पिम्पल हटाने के उपाय के साथ ही खान-पान की आदतों में सुधार भी मुंहासों से बचाव के लिए जरूरी है।

  • क्या खाएं:- मुंहासों से बचे रहने के लिए इन खाद्य पदार्थों को दैनिक आहार में जगह दी जा सकती है | जैसे –  फल , सब्जियां , साबूत अनाज , कम रिफाइंड चीजें
  • क्या न खाएं :- उच्च ग्लाइसेमिक भोजन जैसे – हाई शुगर युक्त ड्रिंक्स , चॉकलेट
    रिफाइन्सड चीजें , प्रोसेसड प्रोडक्ट|

मुंहासे से बचाव (Acne prevention)

1.चेहरे को नियमित धोएं :– अपने चेहरे को हर रोज दो बार धोएं। इससे चेहरे पर जमने वाली धूल-मिट्टी साफ होगी और चेहरे पर तेल नहीं जमेगा।
2.समय–समय पर चेहरा एक्सफोलिएट करें :– त्वचा को एक्सफोलिएट करने से गहराई से चेहरे की सफाई होती है। साथ ही छिद्र भी अच्छे से साफ होते हैं।
3.मेकअप ब्रश को रोज धोएं :– अपने मेकअप ब्रश का इस्तेमाल करने के बाद उसे अच्छी तरह से धोएं। इससे ब्रश पर बैक्टीरिया नहीं पनपते हैं।
4.खूब पानी पिएं :– हर रोज कम-से-कम आठ गिलास पानी जरूर पिएं। इससे शरीर की अशुद्धियां बाहर निकल जाएंगी।
5.स्ट्रेस न लें :– तनाव की वजह से मुंहासे होते हैं। इसी वजह से स्ट्रेस व तनाव न लें।
6.चेहरे को न छुएं :– बार-बार चेहरे को छूने की आदत छोड़ दें। हाथों पर मौजूद बैक्टीरिया चेहरे पर पिंपल की वजह बन सकता है।
7.मेकअप को ध्यान से चुनें :– कुछ मेकअप चेहरे के रोमछिद्रों को ब्लॉक कर देते हैं। इसी वजह से जरूरी है कि नॉन-कॉमेडोजेनिक और नॉन-एक्नेजेनिक मेकअप का ही इस्तेमाल करें, यह चेहरे के रोम छिद्रों को ब्लॉक नहीं करते।
8.खानपान की सही आदत डालें :– बुरी खानपान की आदत की वजह से भी मुंहासे हो सकते हैं। इसलिए, पोषण से भरपूर खाद्य पदार्थों का सेवन करें|

मुंहासे हटाने के घरेलू उपाय (Home remedies for acne)

1. एलोवेरा (Aloe vera)

पिंपल हटाने का घरेलू उपाय एलोवेरा जेल हो सकता है। इसमें मौजूद एंटीबैक्टीरियल और एंटीइंफ्लामेट्री गुण बैक्टीरिया की वजह से होने वाले पिंपल को पनपने से रोकने के साथ ही इससे संबंधित सूजन को कम कर सकते हैं। साथ ही एलोवेरा में मौजूद एंटीसेप्टिक गुण भी बैक्टीरिया को त्वचा पर पनपने से रोक सकता है। एलोवेरा को लेकर एनसीबीआई में मौजूद एक शोध में यह भी कहा गया है कि इसमें एंटी-एक्ने गुण भी होते हैं, जो मुंहासों से बचाव कर सकते हैं ।

इस्तेमाल कैसे करें:- एलोवेरा के पत्ते से ताजा जेल निकालें और सीधे पिम्पल प्रभावित हिस्से पर लगा लें। करीब 10-20 मिनट बाद चेहरे को पानी से धो लें।

2.ग्रीन टी (Green tea)

बार-बार मन में उठने वाले सवाल पिम्पल कैसे हटाएं का जवाब ग्रीन टी हो सकता है। जी हां, इसमें मौजूद पॉलीफेनोल्स मुंहासे के घरेलू उपचार में अहम भूमिका निभा सकते हैं। यह पॉलीफेनोल्स सीबम (त्वचा ग्रंथियों से निकलने वाला तैलीय पदार्थ) के स्राव को कम कर सकता है। इससे मुंहासे ठीक हो सकते हैं या इनसे कुछ हद तक राहत मिल सकती है (11)। इसके अलावा, ग्रीन टी में एंटी-माइक्रोबियल और एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो मुंहासे से लड़ने में सहायता कर सकते हैं (12)। इसी वजह से ग्रीन टी को पिम्पल हटाने का तरीका माना जाता है।

इस्तेमाल कैसे करें:- ग्रीन टी का रोज सेवन किया जा सकता है। इसके अलावा, ग्रीन टी बैग्स को उबालकर, ठंडा करने के बाद चेहरे पर भी लगा सकते हैं।

3.नारियल का तेल (coconut oil)

नारियल के तेल में जीवाणुरोधी यौगिक के साथ ही विटामिन-ई होता है। इसी वजह से नारियल के तेल का इस्तेमाल पिम्पल हटाने के उपाय और इसकी वजह से चेहरे में पड़ने वाले धब्बों के उपचार के रूप में किया जा सकता है। इसके अलावा, नारियल तेल त्वचा को मॉस्चराइज करके नरम रखने के साथ ही स्किन इंफेक्शन से बचाने में भी मदद कर सकता है।

इस्तेमाल कैसे करें :- पिंपल हटाने के घरेलू नुस्खे के रूप नारियल तेल का इस्तेमाल करने के लिए पहले इसकी कुछ बूंदों में थोड़ा सा शहद मिलाएं। फिर इसे अच्छे से फेंटकर चेहरे पर लगा लें। कुछ देर बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।

4. शहद और दालचीनी (Honey and Cinnamon)

शहद और दालचीनी के पाउडर भी पिंपल हटाने का घरेलू उपाय हो सकता है। कहा जाता है कि यह पिंपल को कम कर सकता है । दरअसल, दालचीनी और शहद एक्ने के बैक्टीरिया से लड़कर पिम्पल ट्रीटमेंट में मदद कर सकते हैं। दोनों शहद और दालचीनी में एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं। साथ ही दालचीनी में मौजूद सिनामलडिहाइड केमिकल कंपाउंड में एंटीइंफ्लामेटरी गुण भी होते हैं, जो पिंपल का उपचार करने में लाभदायक हो सकता है। इसके अलावा, एंटीइंफ्लामेटरी गुण एक्ने की वजह से चेहरे में आने वाली रेडनेस को कम करने का काम कर सकता है।

इस्तेमाल कैसे करें :

  • तीन चम्मच शहद और एक चम्मच दालचीनी पाउडर का पेस्ट तैयार करें।
  • अब इस पेस्ट को अच्छी तरह से मुंहासे प्रभावित हिस्सों पर लगाएं।
  • सोने से पहले पेस्ट लगाने के परिणाम प्रभावी हो सकते हैं।
  • रातभर इसे चेहरे में लगा रहने दें और सुबह गुनगुने पानी से चेहरा धो लें।
  • दो हफ्तों तक इसे रोजाना दोहराया जा सकता है|

5. लहसुन (Garlic)

लहसुन को भी पिम्पल हटाने का तरीका माना जाता है। इसमें एलिसिन (Allicin) होता है, जो एंटीबैक्टीरियल की तरह काम करता है। यह त्वचा को बैक्टीरिया से मुक्त रखने के साथ ही इन्हें पनपने से रोकने का काम कर सकता है। इसमें एंटीमाइक्रोबियल, एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण भी होते हैं। ये गुण मिलकर मुंहासे को कम करने में लाभदायक हो सकते है। इसके हाइड्रोक्लोरिक अर्क से एंटी-एक्ने जेल भी बनाया जाता है।

इस्तेमाल कैसे करें:

  • आवश्यकतानुसार लहसुन का पेस्ट बनाकर तैयार करें।
  • अब इसमें थोड़ा सा शहद और पानी की कुछ बूंदें डालकर चेहरे पर लगा लें।
  • मिश्रण लगाने के बाद जब सूख जाए तो त्वचा को धो लें।

6. हल्दी (Turmeric)

हल्दी का उपयोग भी पिम्पल हटाने का तरीका हो सकता है। इसके एंटीसेप्टिक, एंटीबैक्टीरियल और हीलिंग गुण की वजह से इसे पिंपल के लक्षण कम करने के लिए इस्तेमाल में लाया जा सकता है (28)। साथ ही हल्दी में करक्यूमिन (Curcumin) होता है, जो एंटी-इंफ्लेमेटरी के साथ ही एंटीमाइक्रोबियल गुण प्रदर्शित करता है। ये गुण मिलकर पिंपल व मुंहासों को ठीक करने में मदद कर सकते हैं।

इस्तेमाल कैसे करें:

  • चुटकी भर हल्दी में शहद मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें।
  • अब इसे चेहरे पर 20 मिनट तक लगा रहने दें।
  • इसके बाद चेहरे को धो लें।

7. सेंधा नमक (Rock Salt)

पिंपल हटाने का आसान तरीका सेंधा नमक भी है। इसमें मौजूद मैग्निशियम हार्मोन्स को बैलेंस करके एक्ने के लक्षण को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा, यह स्किन में मौजूद डेड सेल्स को साफ करके त्वचा को स्वस्थ और मुलायम बनाने में मदद कर सकता है।

इस्तेमाल कैसे करें:

  • पानी से भरे टब में सेंधा नमक डालकर एक्ने प्रभावित हिस्से को पानी में भिगोएं।
  • एक रूई को सेंधा नमक के पानी में डूबोकर मुंहासों के ऊपर रख दें।
  • करीब 20 से 30 मिनट बाद तौलिए से त्वचा को पोंछ कर ऐसे ही छोड़ दें।

8.नींबू (lemon)

पिम्पल ट्रीटमेंट के लिए कई अन्य घरेलू पदार्थों की तरह ही नींबू का उपयोग भी किया जा सकता है। दरअसल, इसमें मौजूद फ्लेवोनोइड जीवाणुरोधी गतिविधि को प्रदर्शित करते हैं। यही वजह है कि ये त्वचा में बैक्टीरिया को पनपने नहीं देते, जिससे एक्ने में राहत मिल सकती है। इसके अलावा, नींबू में मौजूद सिट्रस एसिड भी प्रोपिओनी बैक्टीरियम एक्न(Propionibacteriumacnes) को बढ़ने नहीं देता । इसी वजह से नींबू को पिंपल के घरेलू उपाय के रूप में जाना जाता है।

इस्तेमाल कैसे करें:

  • आधे नींबू का रस निचोड़कर एक कटोरी में निकाल लें।
  • कुछ बूंदें पानी की डालकर इसे अच्छे से मिक्स करें।
  • अब पानी और नींबू के रस के मिश्रण को रूई की मदद से मुंहासों पर लगाएं।
  • करीब 30 मिनट बाद चेहरे को धो लें।

9. नीम (Azadirachta indica)

पिंपल हटाने के घरेलू नुस्खे के तौर पर नीम का इस्तेमाल काफी प्रचलित है। नीम की पत्तियों में एंटीइंफ्लामेटरी और एंटीबैक्टीरियल गुण पाए जाते हैं (34)। एनसीबीआई की वेबसाइट पर प्रकाशित शोध में बताया है कि नीम के इथेनॉल अर्क से एंटी-एक्ने पैक तैयार किया जा सकता है। यह पैक बनाते समय नीम के साथ तुलसी, ग्रीन टी और कई अन्य सामग्रियों का भी इस्तेमाल किया गया।

इस्तेमाल कैसे करें:

  • नीम की कुछ पत्तियों को पीसकर एक्ने पर लगा सकते हैं।
  • इसके अलावा, नीम को पानी में उबालकर उसके ठंडे काढे से चेहरा धो सकते हैं।
  • नीम के साथ ही तुलसी और ग्रीन टी को एक साथ पिसकर भी इस लेप को चेहरे पर लगाया जा सकता है।
Tagged : / /

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *