बालों की बढ़वार(hair growth)

हर कोई चाहता है कि उसके बाल काले, घने और चमकदार हों। महिलाएं तो इस मामले में बहुत ज़्यादा संवेदनशील होती हैं। उन्हें काले, घने और चमकदार बालों के साथ-साथ लंबे बालों की चाहत होती है।

बालों को तेज़ी से बढ़ाने के तरीके(ways to grow hair fast)

दरअसल, सही जानकारी के अभाव में बाल बढ़ाने के कुछ उपायों को अपनाने की वजह से बालों को लाभ के बजाय नुकसान हो सकता है। इसलिए, आज इस लेख में हम बाल लंबे करने के कुछ घरेलू नुस्खों के बारे में बताने जा रहे हैं, जो बालों के लिए सुरक्षित होने के साथ-साथ आज़माने में भी आसान हैं।

बाल लंबे ना होने के मुख्य कारण(Main reasons for not having long hair)

इससे पहले कि आप बाल लंबे करने के उपायों के बारे में जानें, आपके लिए बाल झड़ने या कमज़ोर होने के कारणों को जानना ज़रूरी है।

  • बढ़ती उम्र
  • आनुवंशिकता
  • गलत खान-पान या ज़्यादा बाहरी खाना
  • खाने में पोषक तत्वों की कमी
  • तनाव
  • हार्मोनल संतुलन में गड़बड़ी
  • मौसम या पर्यावरण में बदलाव
  • दवाओं का ज़्यादा सेवन

बाल बढ़ाने के घरेलू उपाय (Home remedy for hair growth)

1. प्याज़ का रस (Onion juice)

सामग्री(Material):- दो प्याज़ , रुई का टुकड़ा

इस्तेमाल का तरीका(Method of use):- प्याज़ को बारीक़ काटकर उसका रस निकाल लें। इस रस को रुई के टुकड़े की मदद से बालों में लगाएं। रस को पंद्रह मिनट तक बालों में लगा रहने दें और उसके बाद शैम्पू से बाल धो लें।प्याज़ का रस सल्फ़र से भरपूर होता है, जो ऊत्तकों में कोलेजन के उत्पादन को बढ़ावा देता है। इससे बालों को फिर से बढ़ने में मदद मिलती है। इस नुस्खे को हफ़्ते में एक या दो बार आज़माएं।

सावधानी(Caution) :-  प्याज़ का रस पूरे बाल में लगाने से पहले, इसे अपने सिर के छोटे-से हिस्से में लगाकर देखें। अगर आपको सर के उस हिस्से में खुजली या जलन महसूस होती है, तो फिर इस नुस्खे का इस्तेमाल ना करें।

2. कैस्टर ऑयल या अरंडी का तेल(Castor oil or castor oil)

सामग्री (Material) :-कैस्टर ऑयल , हल्के गुनगुने पानी से तौलिए को भिगो लें , नींबू का रस

इस्तेमाल का तरीका(Method of use) :- गुनगुने कैस्टर ऑयल से बालों में मालिश करने के बाद, 20 मिनट के लिए सर पर तौलिया लपेट लें। आप चाहें तो तेल की चिपचिपाहट को दूर करने के लिए उसमें एक-दो बूंद नींबू का रस मिला लें।बालों के प्राकृतिक उपचार के लिए कैस्टर ऑयल को सबसे फ़ायदेमंद तेलों में से एक माना जाता है। कैस्टर ऑयल को लगाने से बाल घने और मुलायम होने के साथ-साथ तेज़ी से बढ़ते हैं। यह तेल बालों को नमी देता है और दो मुंहे बालों को कम करता है। (2) अच्छे नतीजे पाने के लिए, हफ़्ते में दो बार बालों में कैस्टर ऑयल लगाएं।

सावधानी(Caution) :-अगर आपको कैस्टर ऑयल से एलर्जी है या इसे लगाने पर आपको खुजली या जलन होती है, तो इस नुस्खे का इस्तेमाल ना करें।

3. अंडा(Egg)

सामग्री (Material) :- एक अंडा

इस्तेमाल का तरीका (Material) :- कच्चे अंडे को फेंटकर बालों में लगा लें और फिर थोड़ी देर बाद शैम्पू से धो लें।अंडे में प्रोटीन, सल्फ़र, ज़िंक, आयरन, आयोडीन और फ़ॉस्फ़ोरस जैसे पोषक तत्व मौजूद होते हैं। इससे मिलने वाला प्रोटीन बालों के लिए काफ़ी लाभदायक होता है। इसके अलावा, अंडे में मौजूद विटामिन ए, ई और डी बालों की चमक बढ़ाते हैं और उनका गिरना कम करते हैं। आप हफ़्ते में एक या दो बार इस नुस्खे का इस्तेमाल कर सकते हैं।

4. एलोवेरा(Aloe vera)

सामग्री(Material) :- एलोवेरा

इस्तेमाल का तरीका (Material) :- एलोवेरा को काटकर उसके अंदर का द्रव या जैल निकाल लें और उसे अपने बालों में लगाएं। जैल लगाने के एक घंटे बाद अपने बालों को शैम्पू से धो लें। एलोवेरा में मौजूद पोषक तत्व बालों का आकार बढ़ाने में और उनकी चमक को बरकरार रखने में मदद करते हैं ।

सावधानी (Caution) :-अगर बालों पर एलोवेरा लगाने के बाद आपको खुजली महसूस हो, तो तुरंत अपने बाल धो लें।

5. विटामिन(Vitamin)

सामग्री(Material) :- विटामिन-सी या विटामिन-ई की गोली , नारियल तेल

इस्तेमाल का तरीका(Method of use) :- विटामिन-सी या ई की गोली को नारियल तेल में मिलाकर उससे बालों की मालिश करें। मालिश खत्म होने के थोड़ी देर बाद बालों को धो लें। विटामिन-ई और सी में एंटीऑक्सिडेंट के गुण पाए जाते हैं। ये विटामिन ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करके बालों की सेहत में सुधार लाते हैं।

6. आंवला (Gooseberry)

सामग्री (Material) :- दो चम्मच आंवला पाउडर या आंवले का रस , दो चम्मच नींबू का रस

इस्तेमाल का तरीका(Method of use) :-आंवला पाउडर या आंवले के रस को नींबू के रस के साथ मिलाकर मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण को अपने बालों में लगाकर कुछ देर सूखने दें। इसके बाद बालों को गुनगुने पानी से धो दें। आंवले में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट और विटामिन-सी मौजूद होते हैं, जो बालों को स्वस्थ रखने और उनका आकार बढ़ाने में मदद करते हैं। बालों की सेहत अच्छी बनाए रखने के लिए महीने में एक बार इस नुस्खे का इस्तेमाल करना चाहिए।

7. मेथी (Fenugreek)

सामग्री(Material) :- एक चम्मच मेथी दाना , नारियल तेल

इस्तेमाल का तरीका(Method of use) :-एक जार में मेथी के दाने और नारियल तेल को कुछ हफ़्तों तक बंद करके रख दें। इसके बाद तैयार हुए मिश्रण को बालों में लगाएं। कुछ घंटों बाद बालों को शैम्पू से धो लें। मेथी के बीज में ऐसे हार्मोन होते हैं, जो बालों को तेज़ी से बढ़ने में मदद करते हैं। साथ ही, मेथी के बीज में प्रचूर मात्रा में प्रोटीन और निकोटिनिक एसिड भी पाए जाते हैं, जो बालों को टूटने से रोकते हैं।

बालों की वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए आवश्यक तेल (Essential oils to promote hair growth)

प्याज बाल विकास तेल, बादाम, अरंडी, जोजोबा, जैतून और नारियल तेल जैसे पौष्टिक तेलों का मिश्रण। आदि अंदर से बालों को मजबूत बनाता है और बाहर की तरफ shinier होता है।
सभी प्राकृतिक सामग्रियों से बना, हेयर ऑयल कोई नुकसान नहीं करता है और सभी प्रकार के बालों के लिए उपयुक्त है। किसी भी प्रकार के बालों पर, घुंघराले, सीधे, बनावट वाले, मोटे, पतले, महीन, मोटे, रंग के उपचार आदि के लिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं। इसे किसी भी प्रकार के स्कैल्प पर इस्तेमाल किया जा सकता है।

Biotique Bio Bhringraj Fresh Growth Therapeutic Oil (बायोटीक जैव भृंगराज ताजा विकास चिकित्सीय तेल)

मात्रा (quantity): 120 मिलीलीटर

आइटम फॉर्म (Item form): तेल खोपड़ी को पोषण देता है| ताजा विकास को प्रोत्साहित करने के लिए बाल किस्में मजबूत भूरापन कम करने में मदद करें|

कैसे उपयोग करें(How to use): सूखे बालों और खोपड़ी के लिए उदारतापूर्वक लागू करें। परिपत्र गति के साथ धीरे से मालिश करें। आधे घंटे के लिए छोड़ दें। ठंडे पानी से धो लें|

बायोटीक बायो नीम मारगोसा एंटी डैंड्रफ शैम्पू और कंडीशनर (Biotique Bio Neem Margosa Anti Dandruff Shampoo & Conditioner)

मात्रा (quantity): 340 मिलीलीटर
मार्गोसा एक बड़ा सदाबहार पेड़ है|
जो पूरे भारत में पनपता है|
महान औषधीय गुणों को दर्शाता है|
रूसी के साथ जुड़े सूखापन, फड़कन और खुजली को खत्म करता है|

बालों की वृद्धि को बढ़ावा देने क्या करें? (What to do to promote hair growth)

नियमित रूप से बालों में तेल मालिश करें। हफ़्ते में कम से कम दो बार अपने बालों की जड़ों में तेल लगाकर सिर की मालिश ज़रूर करें।पूरी नींद लें। नींद पूरी नहीं होने पर आप तनाव और चिड़चिड़ाहट के शिकार हो सकते हैं और इसकी वजह से आपको बाल झड़ने की शिकायत हो सकती है।रात को बाल बांध कर सोएं। ऐसा करने से आपके बाल आपस में रगड़ खाकर नहीं टूटेंगे।
नियमित रूप से बालों की ट्रिंमिंग कराएं। हर दो-तीन महीने में बालों को हल्का-हल्का कटवाते रहें ताकि आपको दो-मुंहे बालों की समस्या ना हो।

बालों की वृद्धि को बढ़ावा देने के लिए क्या ना करें? (What not to do to promote hair growth)

  • शैम्पू करने के तुरंत बाद बालों को ना झाड़ें। भीगे बालों को झाड़ने से वे कमज़ोर होकर टूट सकते हैं।
  • ज़्यादा शैम्पू ना करें। ज़्यादा शैम्पू करने से बाल रूखे और बेजान हो सकते हैं। इसलिए, हफ़्ते में दो से ज़्यादा बार शैम्पू ना करें।
  • बाल ज़्यादा ज़ोर से ना झाड़ें।
  • बालों को गर्म पानी से ना धोएं।
  • रात को बाल खुले रखकर ना सोएं।

बालों को बढ़ाने के लिए योगासन (Yogasana for hair growth)

योग की मदद से भी बालों स्वस्थ रखा जा सकता है। नीचे हम कुछ ऐसे आसनों के नाम बताने जा रहे हैं, जिन्हें बालों की सेहत के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद माना जाता है|

  1. सूर्य नमस्कार (Surya Namaskar) :- सुबह उठकर सूर्य नमस्कार की मुद्रा धारण करके योगाभ्यास करें। ऐसा आप पांच से दस मिनट तक करें।
  2. फ़ायदा(Profit) :- इस आसन को करने से ना सिर्फ़ पेट की चर्बी कम होती है, बल्कि इससे पूरे शरीर का रक्त प्रवाह भी सही होता है और बाल भी घने होते हैं।
    हमारे व्यक्तित्व को खूबसूरत और आकर्षक बनाने में हमारे बालों की भूमिका काफ़ी अहम है। उम्मीद है कि इस लेख में बालों को काला, लंबा और घना बनाने के जो घरेलू नुस्खे हमने बताए हैं, उनको आज़माने से आपको मनचाहा लाभ मिलेगा। अंत में हमारी आपसे गुज़ारिश है कि अगर आपका कोई दोस्त या रिश्तेदार भी बालों से जुड़ी समस्या से जूझ रहा है, तो उसके साथ ये लेख शेयर करना ना भूलें।
Tagged : /

रूखी त्वचा की देखभाल (Dry Skin Care)

सामान्य स्वस्थ त्वचा पर प्राकृतिक वसा की पतली परत होती है जो त्वचा में नमी बनाए रखती है जबकि रूखी त्वचा के धब्बे शरीर पर रह जाते हैं| कुछ रोगों जैसे डायबिटीज, थायराइड व कुपोषण आदि के कारण त्वचा रूखी हो जाती है|

रूखी त्वचा की की वजह(Causes of dry skin)

ड्राई स्किन समस्या की वजह है सर्दियों का मौसम। जितनी भी बार आप अपनी त्वचा को साबुन या फेसवॉश से साफ करती हैं वह उतनी ही रूखी होती जाती है, क्योंकि क्लींजिंग करने के बाद त्वचा की कुदरती नमी नष्ट हो जाती है। त्वचा पर इसका असर दिखाई देना शुरू हो जाता है। त्वचा रूखी और बेजान हो जाती है। होंठ फटने लगते हैं और पैरों की एड़ियां रूखी और बेजान हो जाती हैं।

Nivea फेस वाश, मिल्क डिलाइट्स मॉइस्चराइजिंग हनी, ड्राई स्किन(Nivea Face Wash, Milk Delights Moisturizing Honey, Dry Skin)

शहद एक प्राकृतिक मॉइस्चराइज़र के रूप में कार्य करता है, जो आपकी शुष्क त्वचा को पोषण देता है|
दूध और शहद आपको समय के साथ नरम और कोमल त्वचा देते हैं जो जीवंत और जीवंत लगती है|
फेस वॉश प्रभावी रूप से आपकी त्वचा को साफ़ करता है, जिससे आपको तुरंत मॉइस्चराइजेशन मिलता है जो दिन भर रहता है|

पॉन्ड्स व्हाइट ब्यूटी स्पॉट कम फेयरनेस फेस वाश(Pond’s White Beauty Spot Less Fairness Face Wash)

  • मृत त्वचा निकालना
  • स्पॉट कम फेयरनेस
  • काले धब्बे हटाने
  • फेयरनेस फेसवॉश
  • चिकित्सकीय सिद्ध फेसवॉश
  • नवीन फ़ॉर्मूला

Olay Day Cream (Olay Day Cream Total Effects)

सामान्य त्वचा के लिए Olay कुल प्रभाव 7 1 एंटी एजिंग त्वचा क्रीम में। इसमें Spf 15. नेट वजन: 50G है। यह क्रीम त्वचा को कम करती है, त्वचा को रंग देती है, लाइनों और झुर्रियों की उपस्थिति को कम करती है, त्वचा को चिकना करती है और मॉइस्चराइज करती है, त्वचा की टोन को बढ़ाती है, छिद्रों को कम करती है और आपकी त्वचा को चमकदार बनाती है।

लक्मे एब्सोल्यूट परफेक्ट रेडिएशन स्किन  क्रीम(Lakme Absolute Perfect Radiance Skin Cream)

  • त्वचा को मॉइस्चराइज़ करता है
  • त्वचा की मरम्मत करता है
  • उज्ज्वल चमक त्वचा देता है
  • त्वचा की टोन को हल्का करता है
  • त्वचा की टोन को मिटाता है

रूखी त्वचा की देखभाल के  घरेलू  उपचार (Dry Skin Care Home Remedies)

1. व्यायाम(Work out) :- जब आप व्यायाम करते हैं तब आपको पसीना होता है। इससे आपके रोम छिद्र खुल जाते हैं और यह अंदर से प्राकृतिक तेल को बाहर निकालता है। यह तेल आपके चेहरे को नमी प्रदान करता है। जिससे यह आपकी रूखी त्वचा को रोकता है|

2. शहद (Honey):- रूखी त्वचा के लिए शहद बेहद ही फायदेमंद है। अकसर मौसम के बदलने के कारण त्वचा रूखी हो जाती है। ऐसे में चेहरे पर शहद लगाने से त्वचा को नमी मिलती है। आप इसका इस्तेमाल रोज कर सकते है। बस इसे चेहरे पर 10 मिनट लगा कर रखे और बाद में चेहरा धो ले। इसका नियमित रूप से प्रयोग करने पर आपको खुद ही परिवर्तन नजर आएगा।

3. दूध(Milk) :- रूखी त्वचा को अच्छा बनाने के लिए आधा कप ठंडे दूध में जैतून के तेल की कुछ बूंदें डालिए, उसके बाद इन दोनों को एक बोतल में डालकर हिलाए| फिर इस मिश्रण को चेहरे पर लगाएं। इससे त्वचा में निखार आएगा।

4. हर्बल चाय(Herbal tea) :- नमी की कमी के कारण त्वचा की कोमलता नष्ट हो जाती है। इसलिए इससे बचने के लिए हम गर्म पदार्थ जैसे हर्बल टी आदि का दिन में कई बार सेवन कर सकते हैं। अदरक और नींबू के मिश्रण से बनी चाय का सेवन करने से त्वचा हमेशा दमकती रहती है इसका नियमित सेवन करने से पाचन तंत्र पाचन तंत्र भी ठीक रहता है |

5. तिल का तेल (Sesame oil) :- एक चम्मच तिल के तेल में थोडी-सी क्रीम या दूध की मलाई मिलाकर अच्छी तरह फेंट लीजिए, फिर उसे चेहरे और गर्दन पर लगाएं। 20 मिनट हल्का मसाज करने के बाद चेहरे को सादे पानी से धो लीजिए। इससे आपका चेहरा नर्म, मुलायम और चमकदार हो जाएगा। आप चाहे तो ऑलिव ऑयल का भी इस्तेमाल कर सकते है।

6. बादाम का तेल(Badam oil) :- बादाम का तेल और शहद बराबर-बराबर मात्रा में मिलाकर नाखूनों में लगाकर मसाज करें। 15 मिनट बाद गीले तौलिए से पोंछ लीजिए, रूखी त्वचा में निखार आएगा। इसके अलावा रात को सोने से पहले दूध में एक चम्म्च बादाम का तेल डालकर पिएं इससे बहुत फायदा होगा।

7. नारियल का तेल(Coconut oil) :- नारियल तेल में स्किन रिलेटेड हर प्रॉब्लम को सॉल्व करने का गुण है सबसे ज्यादा इफेक्टिव है यह ड्राई स्किन वालों के लिए। नारियल का तेल लगाए एक दिन या कुछ घण्टे रहने दे उसके बाद नहा लें आपको इसका असर पहले दूसरे दिन से महसूस होने लगेगा।

8. बेसन(Gram Flour) :- एक चम्मच हल्दी, एक चम्मच शहद और थोड़े से दूध में दो बड़े चम्मच बेसन मिलाकर तैयार करें। नींबू की कुछ बूंदें मिलाकर इस पैक को चेहरे पर लगाकर सूखने दें और फिर गर्म पानी से धो लें। इससे लगाने से धीरे धीरे आपका रंग भी निखरने लगेगा। बेसन ड्राई स्किन को हाइड्रेट करने में मदद करता है। इसके अलावा झुर्रियों को दूर करने में भी इसका उपयोग फायदेमंद है|

9. सिरका(Vinegar) :- आपकी त्वचा ज्यादा रूखी है और उसमें जलन भी होती है, तो ऐसे में 2 चम्मच सिरके को एक मग पानी में मिलाएं और नहाने के बाद जहां-जहां रूखी त्वचा हो वहां लगाइए, इससे जल्द ही फायदा होगा।

10. ध्यान रहे(Keep in mind) :- चेहरे को हल्के हाथों से साफ करें। सर्दियों में त्वचा के मृत कोशों को हटाने के लिए तेजी के साथ-साथ जल्दी-जल्दी स्क्रब करने से बचें, ताकि झुर्रियां न पड़ें।

Tagged : / /

गर्मी में त्वचा की देखभाल (Summer skin care)

मौसम के साथ-साथ त्वचा में बदलाव आता है। इसलिए गर्मी, बरसात और ठंड के मौसम के अनुरूप अलग-अलग ढंग से त्वचा की देखभाल की आवश्यकता होती है।

गर्मी का मौसम(Summer season)

  • गर्मी के दिनों में तेज गर्म हवाएँ त्वचा को काफी नुकसान पहुँचाती हैं। इस मौसम में पसीने की चिपचिपाहट का भी सामना करना पड़ता है।
  • गर्मी के मौसम में पसीना अधिक निकलने की वजह से घमौरी, खाज, खुजली आदि की शिकायत भी उत्पन्न हो जाती है।
  • तेज धूप में निकलने पर त्वचा पर सनबर्न, पिगमेंटेशन आदि की समस्या भी उत्पन्न हो जाती है।
  • अधिक गर्मी और पसीने की वजह से बगलों व जाँघों में संक्रमण हो जाता है।

बचाव के उपाय(Prevention Measures)

  • दिन में कम से कम दो बार ठंडे पानी से स्नान करें।
  • साफ, धुले, सूती कपड़े पहनें। अंतर्वस्त्र दो बार बदलें।
  • दिनभर में 3-4 बार चेहरे को फेसवॉश से साफ करें।
  • ककड़ी, खीरा, संतरा या मौसम्बी का रस निकाल लें। इसे फ्रिज में जमने के लिए रख दें। इसके क्यूब को चेहरे पर मलें। चेहरा चमक उठेगा। रोमकूपों और मुँहासों के लिए भी लाभदायक होता है।
  • पानी में थोड़ी-सी फिटकरी मिलाकर इसे आइस क्यूब में रखकर फ्रिज में जमा लें। यह क्यूब चेहरे पर रगड़ने से ताजगी मिलती है।
  • गर्मी के दिनों में ब्लीचिंग न करवाएँ। इससे त्वचा काली हो जाने का डर रहता है।

 सनबर्न (Sunburn)

सनबर्न लोशन में अक्शाइल मेथॉक्सीसीनमेट (Methoxycinnamate),
ऑक्सीबेन्ज़ोन (Oxybenzone) और टाइटेनियम डाइऑक्साइड (
Titanium dioxide ) शामिल हैं। यह सूर्य की पराबैंगनी विकिरणों के हानिकारक प्रभावों से त्वचा को बचाता है सनबर्न लोशन में एक यूवीए और यूवीबी सुरक्षा कारक है। ऑक्टिल मेथोक्सीसीनमाइट (Octyl methoxynimite) एक सूर्य अवरुद्ध करने वाला एजेंट है जो यूवी किरणों को अवशोषित करता है और निशान को कम करने में मदद करता है।

सनबर्न क्या है?(What is sunburn)?

त्वचा शरीर का सबसे बड़ा अंग है, जो सूरज की किरणों के संपर्क में आता है. सूर्य की पराबैंगनी किरणें त्वचा में प्रवेश करती हैं और त्वचा में मेलेनिन के निर्माण में मदद करती हैं. मेलेनिन रंगों का वह द्रव्य है जो त्वचा को कालापन देता है. शरीर में मेलेनिन की अधिक मात्रा त्वचा को काला करती है. सूरज के विकिरण के संपर्क में आने से भी शरीर को विटामिन डी और गर्मी पैदा करने में मदद मिलती है सभी उम्र, जाति और लिंग के लोग सनबर्न की स्थिति में आ सकते हैं. सभी मौसमों में जब सूरज की किरणे कम होती हैं तब भी यह स्थिति हो सकती है

सनबर्न के लक्षण और संकेत क्या हैं? (What are the symptoms and signs of sunburn)?

सनबर्न त्वचा लाल होता है, त्वचा में दर्द होता है और आमतौर यह छूने में गर्म लगता है. प्रायः, यह तब दिखता है जब त्वचा पराबैंगनी (यूवी) किरणों या कृत्रिम रोशनी जैसे कि सनलैम्प्स के संपर्क में अधिक समय तक रहती है. सनबर्न के संकेतों में शामिल हैं:

  • त्वचा पर गुलाबीपन या लालिमा
  • दर्द, खुजली और सूजन
  • छोटे आकार के द्रवयुक्त फफोले
  • सिरदर्द, बुखार, मतली और थकान

सनबर्न बीमारी के लक्षणों को बढ़ाता है जैसे दाद, एक्जिमा, जिल्द की सूजन और एरिथेमेटोसस. गंभीरता के कारण मेलेनोमा, त्वचा कैंसर, समय से पहले बुढ़ापा, त्वचा की झुर्रियां, डिहाइड्रेशन, थकावट और हीट स्ट्रोक भी हो सकता है

सनबर्न किन कारणों से होता है?(What causes sunburn)?

पराबैंगनी बी से संबंधित पराबैंगनी सौर विकिरण या फोटो खींचने से त्वचा में जलन होती है. अगर त्वचा धूप में बहुत अधिक उजागर होती है तो स्किन कैंसर होने की संभावना होती है. त्वचा में मेलेनिन वर्णक त्वचा के रंग को सामान्य रखने में मदद करता है. जब त्वचा बहुत ज्यादा धूप या यूवी किरणों के संपर्क में आती है तब भी यह तेज हो जाता है और शरीर की सुरक्षा करता है.

सनबर्न के लिए सबसे अच्छा इलाज क्या है?(What is the best treatment for sunburn)?

यदि किसी व्यक्ति को सनबर्न हो जाता है तो त्वचा को ठीक होने में लगभग 2 सप्ताह का समय लगता हैं. इसके इलाज से केवल त्वचा को आराम मिलता है लेकिन त्वचा ठीक नहीं होती है. उपचार के दौरान दर्द, सूजन और बेचैनी से राहत मिल सकती है|

  • हाइड्रोकार्टिसोन क्रीम: यह खुजली को कम करने में मदद करता है|
  • कोल्ड शॉवर्स: ठंडे स्नान या शॉवर लेने से दर्द से राहत पाने में मदद मिलती है|
  • एलोवेरा मॉइस्चराइजर: एलोवेरा युक्त मॉइस्चराइजर का उपयोग छीलने वाली त्वचा पर किया जा सकता है|
  • रीहाइड्रेट: अतिरिक्त पानी पीने से भी प्रभाव को कम करने में मदद मिलती है|

सनबर्न से बचाव के उपाय क्या हैं?(What are the measures to prevent sunburn)?

हानिकारक सूर्य विकिरणों से खुद को बचाना, बाहर निकलने पर धूप का चश्मा और कैप का उपयोग करके बचा जा सकता है. इन सभी निवारक उपायों से एक व्यक्ति को इससे बचने में मदद मिल सकती है और अगर किसी भी तरह का नुकसान हुआ है तो आगे के एपिसोड को भी रोका जा सकता है.

  • सुबह 10 बजे – शाम 4 बजे के दौरान धूप में बाहर जाने से बचें|
  • ऐसे कपड़े पहनें जो त्वचा को यूवी किरणों से बचाने और ब्लॉक करने में मदद करें|
  • यूवी प्रोटेक्शन वाले धूप के चश्मे जरूर पहने|
  • एसपीएफ़ 30 या उच्चतर का सनस्क्रीन लागू करें और इसे हर 2 घंटे के भीतर पुन: लागू करें.
  • ज्यादा धूप में बाहर जाने से बचें|

गर्मी में त्वचा की देखभाल के घरेलू उपाय(Home remedies for skin care in summer)

आधा खीरा लेकर उसे अच्छे से पीस ले फिर इसमें एलोवेरा का रस मिला लें अब इसे चेहरे पर 15 से 20 मिनट तक लगाकर रखें| फिर इसे ठंडे पानी से धो लें जिससे त्वचा का रूखापन दूर होता है और त्वचा में चमक आती है |

  • गर्मी में अधिक से अधिक पानी का सेवन करें|
  • गर्मी में ताजे फलों का और जूस का सेवन करें |
    एक टब में गुनगुना पानी लें और उसमें छह कप दूध मिलाएं, इसमें पैर को डुबोकर रखें. यह करने से शरीर का तापमान कम होगा और त्वचा मुलायक होगी|
  • धूप में निकलने से पहले 30 SPF वाला सनस्क्र‍ीन का इस्तेमाल करें. लेकिन ध्यान रहे कि इसे घर से निकलने के 15 मिनट पहले लगाना चाहिए| सनस्क्रीन लगाने के तुरंत बाद धूप में ना निकलें. दिन में तीन बार सनस्क्रीन का प्रयोग करें |
  • अगर धूप के कारण सनबर्न हो गया है तो सनबर्न स्क‍िन के लिए एंटीऑक्सीडेंट वाले हल्के लोशन का इस्तेमाल करें. इसके इस्तेमाल से त्वचा ठीक होगी.
  • टीवी में ऐड देखकर या किसी के सलाह पर अपनी त्वचा के साथ एक्सपेरिमेंट ना करें. नया स्किन प्रोडक्ट आजमाने से पहले अपनी त्वचा के बारे में जान लें. इसमें कोई त्वचा विशेषज्ञ आपकी मदद कर सकता है. आप त्वचा विशेषज्ञों के पास जाकर गर्मियों में इस्तेमाल किए जाने वाले प्रोडक्ट्स की जानकारी लें |
Tagged : / /